Jannah Theme License is not validated, Go to the theme options page to validate the license, You need a single license for each domain name.
world news facts

हीराकुंड बांध घूमने की पूरी जानकारी !!

इस प्रकार सड़क मार्ग से हीराकुंड की यात्रा के लिए बस, टेक्सी या अपने निजी वाहनों से यात्रा कर सकते हैं।

PUBLISHED BY -LISHA DHIGE

हीराकुंड बांध ओडिशा राज्य के संबलपुर में स्थित है। महानदी नदी पर बना हीराकुंड बांध दुनिया का सबसे लंबा मानव निर्मित बांध है और भारत में पहली बड़ी बहुउद्देशीय नदी घाटी परियोजनाओं में से एक है। बांध की झील, जिसे हीराकुंड जलाशय कहा जाता है, एक महत्वपूर्ण पर्यटक आकर्षण है। सर्दियों के मौसम में यहां पर्याप्त संख्या में प्रवासी पक्षियों को देखा जा सकता है। हीराकुंड बांध न केवल एक दर्शनीय स्थल है बल्कि एक आदर्श वातावरण भी है जो वन्यजीवों को फलने-फूलने में मदद करता है। बांध के निर्माण के दौरान कुछ पुराने मंदिरों की खोज हुई; पर्यटक मई और जून में नाव से इन मंदिरों के दर्शन कर सकते हैं। इसके अलावा, पर्यटक हीराकुंड के पानी का पता लगाने के लिए स्कूबा डाइविंग जैसी रोमांचक गतिविधियों का विकल्प भी चुन सकते हैं।

हीरा कुंड डेम का इतिहास

महानदी नदी पर स्थित हीराकुंड डेम का निर्माण सन 1948 में शुरू हुआ जो 1953 में बनकर पूर्ण हुआ। जबकि वर्ष 1957 में यह बाँध पूरी तरह से काम करने लगा था।

PHOTO-@SOCIALMEDIA

हीराकुंड बांध की वास्तुकला

ओडिशा राज्य में स्थित हीराकुंड बांध देश की इंजीनियरिंग कौशल का एक उत्कृष्ट उदाहरण है और यह मिट्टी, कंक्रीट और चिनाई की एक समग्र संरचना है। बांध की लंबाई 4.8 किमी है जो बुरला और हीराकुंड की दो पहाड़ियों के बीच बहुत ही समझदारी से बनाया गया है। हीराकुंड जलाशय की तटरेखा 639 किमी से अधिक है। बांध पर दो अवलोकन टॉवर हैं, एक दोनों तरफ। जिनमें से एक को “गांधी मीनार” और दूसरे को “नेहरू मीनार” के नाम से जाना जाता है। दोनों अवलोकन टॉवर झील के शानदार दृश्य प्रस्तुत करते हैं।

हीराकुंड बांध के महत्वपूर्ण तथ्य

  • बता दे हीराकुंड बांध का निर्माण 1957 में महानदी पर किया गया है।
  • हीराकुंड बांध की लम्बाई 8 किलोमीटर है जिससे 810 करोड़ घन मीटर जल संचित होता है।
  • यह बांध 1,33,090 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला है, जो कि श्रीलका के क्षेत्र से दोगुना है।
  • हीराकुंड बांध बिजली उत्पादन और 7,500,000 हेक्टेयर भूमि की सिंचाई करता है।
  • बता दे हीराकुंड बांध की झील एशिया की सबसे बड़ी मानव निर्मित झील है, इसका उद्देश्य बाढ़ पर नियंत्रण एवं विद्युत उत्पादन है।

हीराकुंड बांध की यात्रा में आप क्या क्या कर सकते हैं

  • बता दे हीराकुंड डेम की यात्रा में हीराकुंड झील के पानी का पता लगाने के लिए स्कूबा डाइविंग जैसी रोमांचक गतिविधि का विकल्प चुन सकते है।
  • हीराकुंड डेम की यात्रा में आप संबलपुर के कई अन्य आकर्षणों जैसे हुमा मंदिर, बदरमा-सकोठी वन्यजीव अभयारण्य और देवलाझारी की यात्रा कर सकते है।
  • बांध की अपनी यात्रा के बाद संबलपुर में स्थानीय भोजनालयों में स्थानीय व्यंजनों का लुफ्त उठा सकते हैं।

हीराकुंड बांध के खोये हुए मंदिर

शायद आपको जानकर थोड़ी हैरानी हो कि खोए हुए मंदिर भी देखे जा सकते हैं लेकिन यह सच है। 1957 में बांध के पूरा होने के बाद, इसके और इसके आसपास के मंदिरों के अवशेष पानी में डूबे हुए माने जाते हैं। लेकिन गर्मी के मौसम में जब जलस्तर कम हो जाता है तब इन मंदिरों को देखा जा सकता है। इन मंदिरों ने कई इतिहासकारों और पर्यटकों का ध्यान आकर्षित किया है और यह एक लोकप्रिय स्कूबा डाइविंग स्थल बन गया है। इन खोए हुए मंदिरों को खोजने में दिलचस्पी तब पैदा हुई जब पद्मपुर गांव में पद्मसेनी मंदिर से दो पत्थर खुदे हुए (शिला लेख) पाए गए। हालाँकि लगभग 200 जलमग्न थे, जिनमें से 150 की हालत खराब हो गई है और वर्तमान में अन्य 50 मंदिरों में केवल गर्मियों के दौरान ही जाया जा सकता है।

हीराकुंड बांध घूमने जाने का सबसे अच्छा समय

इस जगह की जलवायु बहुत चरम है, गर्मियों में तापमान लगभग 40 डिग्री सेल्सियस और सर्दियों में 1 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ जाता है। मानसून के मौसम में इस क्षेत्र में भारी वर्षा होती है। इसीलिए हीराकुंड संबलपुर घूमने का सबसे अच्छा समय सितंबर से मार्च तक माना जाता है क्योंकि इस दौरान मौसम ज्यादातर सुहाना रहता है। इसके अलावा अगर आप हीराकुंड बांध को पूरे रोष के साथ देखना चाहते हैं तो आपको मानसून के मौसम में हीराकुंड बांध की यात्रा करनी चाहिए।

हीराकुंड बांध केसे जायें

यदि आप अपने दोस्तों के साथ ओडिशा राज्य के संबलपुर में स्थित हीराकुंड बांध की यात्रा करने की योजना बना रहे हैं और सोच रहे हैं कि हीराकुंड बांध कैसे पहुंचे? तो हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आप अपनी सुविधा के अनुसार कोई भी फ्लाइट, ट्रेन या सड़क मार्ग चुनकर हीराकुंड बांध की यात्रा कर सकते हैं।

फ्लाइट से हीराकुंड बांध केसे जायें :

PHOTO-@SOCIALMEDIA

अगर आप हीराकुंड बांध संबलपुर जाने के लिए हवाई जहाज से यात्रा करना चाहते हैं तो हम आपको बता दें कि हीराकुंड बांध का निकटतम हवाई अड्डा रायपुर हवाई अड्डा है, जो हीराकुंड बांध से लगभग 271 किमी की दूरी पर स्थित है। हवाई जहाज से हीराकुंड बांध की यात्रा करना थोड़ा असुविधाजनक हो सकता है। लेकिन अगर आप फ्लाइट से यात्रा करने जा रहे हैं तो रायपुर एयरपोर्ट पहुंचने के बाद आप बस या टैक्सी बुक करके हीराकुंड बांध पहुंच सकते हैं।

हीराकुंड बांध ट्रेन से केसे पहुचें :

PHOTO-@SOCIALMEDIA

अगर आपने हीराकुंड बांध जाने के लिए ट्रेन का रास्ता चुना है तो आपको बता दें कि हीराकुंड के सबसे नजदीकी शहर संबलपुर में दो रेलवे स्टेशन खेतराजपुर और संबलपुर हैं। हालाँकि, खेतराजपुर रेलवे स्टेशन संबलपुर का मुख्य रेलवे स्टेशन है और अधिकांश ट्रेनें यहाँ रुकती हैं। दोनों रेलवे स्टेशन हीराकुंड बांध से कुछ ही मिनटों की दूरी पर स्थित हैं। रेलवे स्टेशन पहुंचने के बाद आप स्थानीय वाहनों की मदद से अपने गंतव्य तक पहुंच सकते हैं।

सड़क मार्ग से हीराकुंड बांध केसे जाएँ :

PHOTO-@SOCIALMEDIA

संबलपुर में दो रेलवे स्टेशन की तरह दो बस स्टेंडड भी मौजूद है जो बसों के माध्यम से संबलपुर को ओडिशा के कई प्रमुख शहरों से जोड़ते है। इसके अलावा मुम्बई को कोलकाता से जोड़ने वाला राष्ट्रीय राजमार्ग 6 संबलपुर से होकर गुजरता है। जबकि संबलपुर राष्ट्रीय राजमार्ग 42 के माध्यम से भुवनेश्वर से जुड़ता है। इस प्रकार सड़क मार्ग से हीराकुंड की यात्रा के लिए बस, टेक्सी या अपने निजी वाहनों से यात्रा कर सकते हैं।

bulandmedia

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button