Jannah Theme License is not validated, Go to the theme options page to validate the license, You need a single license for each domain name.
छत्तीसगढ़
Trending

विकसित भारत के निर्माण में सबसे बड़ी भूमिका कृषि की होगी : डॉ. पाठक

रायपुर । भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के महानिदेशक एवं सचिव कृषि अनुसंधान एवं शिक्षा, भारत सरकार डॉ. हिमांशु पाठक ने कहा है कि विगत 50 वर्षां में भारत में कृषि क्षेत्र का तीव्र विकास हुआ है और वर्ष 1991 तक विदेशों से अनाज का आयात करने वाला देश आज अन्य देशों को 53 बिलियन यू.एस. डॉलर मूल्य के कृषि उत्पादों का निर्यात कर रहा है। उन्होंने कहा कि आज भारत में 330 मिट्रिक टन अनाज का उत्पादन हो रहा है और उद्यानिकी फसलों का उत्पादन 550 मिट्रिक टन हो गया है। दूध उत्पादन के क्षेत्र में भारत पूरे विश्व में अग्रणी स्थान पर है। देश की कृषि उत्पादकता वर्ष 1970 में 0.7 मिट्रिक प्रति हेक्टेयर थी जो आज बढ़कर 2.4 मिट्रिक टन प्रति हेक्टेयर हो गई है। डॉ. पाठक ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के वर्ष 2047 तक विकसित भारत निर्माण के संकल्प को पूरा करने में सबसे बड़ी भूमिका कृषि की ही होगी।

डॉ. पाठक 15 मार्च को इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के प्राध्यापकों, वैज्ञानिकों तथा विद्यार्थियों को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. गिरीश चंदेल ने की। डॉ. पाठक ने इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय द्वारा संचालित अनुसंधान एवं विकास गतिविधियों का जायजा भी लिया। उन्होंने इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय में अंतर्राष्ट्रीय छात्रावास एवं शबरी कन्या छात्रावास का लोकार्पण भी किया।

डॉ. पाठक ने भारत में कृषि शिक्षा के परिदृश्य पर प्रकाश डालते हुए कहा कि देश में कृषि शिक्षा तेजी से विस्तार हो रहा है और आज 73 शासकीय कृषि विश्वविद्यालयों के साथ ही 157 निजी कृषि विश्वविद्यालय भी संचालित हैं। विगत पांच वर्षां में कृषि विश्वविद्यालयों में विद्यार्थियों की संख्या लगभग दो गुनी हो गई है। अनेक नये कृषि महाविद्यालयों की शुरूआत की गई है, नये पाठ्यक्रम खोले गये हैं तथा सीटों में वृद्धि की गई है। डॉ. पाठक ने कहा कि आज कृषि शिक्षा के क्षेत्र में वर्चुअल क्लासरूम, वृह्द मुक्त ऑनलाईन पाठ्यक्रम (मूक) तथा आर्टिफिशियल इंटेलिजेन्स जैसी आधुनिक सुविधाओं का उपयोग भी किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कृषि क्षेत्र में रोजगार एवं व्यवसाय के बड़ते अवसरों को देखते हुए कृषि पाठ्यक्रमों में विद्यार्थियों की रूचि लगातार बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि कृषि शिक्षा के सामने अनेक चुनौतियाँ भी हैं जिन्हें नवीन राष्ट्रीय शिक्षा नीति के माध्यम से दूर करने का प्रयास किया जा रहा है।

डॉ. पाठक ने इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के भ्रमण के दौरान यहां संचालित विभिन्न अधोसंरचनाओं एवं अनुसंधान कार्यां का अवलोकन किया। उन्होंने उच्च मूल्य फसलों की गुणवत्तायुक्त संरक्षित खेती के अंतर्गत उगाई जा रही फसलों का अवलोकन किया। उन्होंने टिश्यू कल्चर प्रयोगशा में टिश्यू कल्चर तकनीक के माध्यम से उत्पादित केले एवं गन्ने के पौधों के बारे में जानकारी ली। डॉ. पाठक ने डॉ. आर.एच. रिछारिया प्रयोगशाला में संग्रहित धान की परंपरागत 23 हजार से अधिक किस्मों के जननद्रव्य (जर्मप्लाज्म) का अवलोकन किया। उन्होंने इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय द्वारा विकसित धान इम्यूनिटी बूस्टर एवं कैंसर रोधी किस्म ‘‘संजीवनी’’ के संबंध में जानकारी प्राप्त की। उन्होंने कृषि विश्वविद्यालय द्वारा विकसित धान से प्रोटीन, इथेनॉल एवं शुगर सिरप निर्माण की तकनीक का भी जायजा लिया। उन्होंने इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय द्वारा संचालित फायटोसेनेटरी लैब में उपलब्ध सुविधाओं के बारे में भी जानकारी प्राप्त की। कुलपति डॉ. गिरीश चंदेल ने डॉ. पाठक को बताया कि कृषि विश्वविद्यालय द्वारा धान की 18 हजार से अधिक किस्मों की डी.एन.ए. फिंगर प्रिंटिंग पूर्ण कर ली गई है। डॉ. चंदेल ने उन्हें विश्वविद्यालय द्वारा विकसित धान की न्यूट्री-रिच किस्मों के बारे में भी जानकारी दी। डॉ. पाठक ने कृषि विश्वविद्यालय द्वारा किये जा रहे अनुसंधान कार्यां की सराहना की तथा भविष्य में किये जाने वाले अनुसंधान एवं विकास कार्यां के लिए शुभकामनाएं दीं। इस दौरान संचालक अनुसंधान डॉ. विवेक कुमार त्रिपाठी, निदेशक विस्तार डॉ. अजय वर्मा, निदेशक प्रक्षेत्र एवं बीज डॉ. एस.एस. टुटेजा, अधिष्ठाता छात्र कल्याण डॉ. संजय शर्मा एवं अधिष्ठाता कृषि महाविद्यालय, रायपुर डॉ. जी.के. दास भी उपस्थित थे।

bulandmedia

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button